रविवार, 20 जून 2010

दुल्हन

..क्योंकि हर दुल्हन ख़ास है
दुनियाभर देश के हर हिस्से में शादी के गहनों की अपनी एक ख़ास परंपरा है। ज्वेलरी कलेक्शन तैयार करते व़क्त अभी तक इस ट्रेडीशन का ध्यान नहीं रखा जाता था।
तनिष्क ने पहली बार क्षेत्रवार ट्रेडीशनल ब्राइडल ज्वेलरी कलेक्शन पेश कर यह पहल की है, जिसमें परंपरा के साथ मॉडर्न टच भी है..

में विवाह संस्कार का बहुत महत्व है। शादी का संबंध हमारी परंपरा से है, इसलिए इस मौक़े पर जो भी होता है, परंपरागत विधि व तरीक़ों से ही होता है- फिर चाहे निभाई जाने वाली रस्में हों या कपड़े व गहनों का चयन। शादी की शॉपिंग करते समय भी अपनी क्षेत्रीय संस्कृति का विशेष ख्याल रखा जाता है। इसलिए रोजमर्रा पहनने के लिए तो आप आर्टीफीशियल ज्वेलरी या किसी ज्वेलर से कुछ भी ट्रेंडी ख़रीद कर पहन सकते हैं, लेकिन शादी के मौक़े के लिए ज्वेलरी ख़रीदते समय उस सुनार की खोज शुरू हो जाती है, जो परंपरागत गहने बनाने में माहिर हो।
बहरहाल, शादी के सीजन में विभिन्न ज्वेलरी ब्रांड अपना-अपना कलेक्शन तो निकालते हैं, लेकिन उन कलेक्शंस में परंपरागत डिज़ाइनों व स्टाइल का अभाव देखा जा सकता है। इसी को ध्यान में रखते हुए पिछले दिनों तनिष्क ने अपना एक्सक्लूसिव वेडिंग ज्वेलरी कलेक्शन पेश किया है। यह कलेक्शन इस लिहाज से ख़ास था कि इसमें पंजाबी, गुजराती, मारवाड़ी, तेलुगू, तमिल, बंगाली, कन्नड़, मराठी और बिहारी दुल्हनों के लिए ट्रेडीशनल ज्वेलरी पेश की गई।
बड़े शहरों में रहने वाली लड़कियों को ध्यान में रखते हुए मैट्रो ब्राइड के लिए भी स्पेशल कलेक्शन शामिल किया गया है। यह पहला मौक़ा है, जब तनिष्क ने देश के अलग-अलग समुदायों को ध्यान में रखकर कलेक्शन तैयार किया। कलेक्शन को दिल्ली के ताजमान सिंह होटल में एक ज्वेलरी शो के माध्यम से प्रस्तुत किया गया।
इस अवसर की शो स्टॉपर जानी-मानी मॉडल इंद्राणी दास गुप्ता रहीं, जिन्होंने पंजाबी दुल्हन का लिबास और गहने पहने थे। तनिष्क के उपाध्यक्ष संदीप कुलहाली ने बताया कि कलेक्शन के लिए काफ़ी रिसर्च करने के बाद ही परंपरागत डिज़ाइनों को थोड़ा समकालीन रूप देकर पेश किया गया है।

हर किसी के लिए

पंजाबी दुल्हन : इस कलेक्शन में पोल्की सेट है। साथ ही कई कीमती स्टोन्स व नगों से जड़े हार व बुंदे भी शामिल हैं। कलेक्शन में पोल्की मांग टिक्का, चूड़ियां, कड़ा व अंगूठी स्पेशल है।

बंगाली दुल्हन : बंगाली दुल्हन के लिए गहने बनाने में प्योर गोल्ड को विशेष तवज्जो दी गई है। रवा वर्क इस कलेक्शन की ख़ासियत है, जो कि वहां का टिपिकल स्टाइल भी है। परंपरागत हार, बालियां, मुकुट, नथ, चौड़े कड़े के साथ शांका पोला बैंगल्स ने कलेक्शन में चार चांद लगा दिए हैं।

तमिल दुल्हन : तमिल दुल्हन के लिए गोल्ड ज्वेलरी को प्रमुखता दी गई है। मागा माली, मांगो मोटिफ हार, कासू मलाई क्वाइन हार, बाजूबंद, ख़ूबसूरत तगड़ी व नक्काशी किया हुआ हार कलेक्शन की विशेषता है।

तेलुगू दुल्हन : दक्षिण भारत में गोल्ड ज्वेलरी को विशेष महत्व दिया जाता है, इसलिए तेलुगू दुल्हन के लिए तैयार कलेक्शन में भी शुद्ध सोने के गहनों की ख़ास रेंज शामिल की गई है। इसमें वदनम और कानडोरी की ख़ूबसूरत वैराइटी भी हैं। कलेक्शन में अलग-अलग लंबाई के सुंदर हार और कंगन, नथ, बालियां व तगड़ियां भी सम्मिलित हैं।

गुजराती दुल्हन : गुजराती दुल्हन की ज्वेलरी के लिए तनिष्क ने कुंदन और पोल्की वर्क को ख़ासतौर पर शामिल किया है। मांग टिक्का, हार, बालियां, चूड़ियां, कड़े, नथ व अंगूठियों की कई वैराइटी परंपरागत स्टाइल में देखी जा सकती है।

मारवाड़ी दुल्हन : मारवाड़ी दुल्हन की ज्वेलरी में बोड़ला व नथ विशेष महत्व रखते हैं। Êाहिर है, कलेक्शन में ख़ूबसूरत नथ और बोड़ले होने ही थे। पोल्की सेट, डायमंड ज्वेलरी को भी विशेष रूप से शामिल किया गया है। और हार, बालियां, अंगूठियां व कंगन तो हैं ही।

बिहारी दुल्हन : बिहारी दुल्हन के लिए कलेक्शन में गोल्ड व कुंदन ज्वेलरी है। कलेक्शन में हार, कंगन, बाजूबंद और बालियां शामिल हैं।

मराठी दुल्हन : मराठी दुल्हन के लिए तनिष्क ने लक्ष्मीहार, रानीहार, पाटला, तोड़ा, मोती वाली परंपरागत नथ को कई तरह की परंपरागत डिज़ाइनों में पेश किया है। साथ ही बालियां, चूड़ियां व अंगूठियां भी कलेक्शन की शोभा बढ़ा रही हैं।

मेट्रो ब्राइड : शहरों में रहने वाली जो युवतियां अपनी शादी के लिए ट्रैंडी और स्टाइलिश ज्वेलरी की खोज में हैं, उनकी इच्छाओं और शहरी लाइफस्टाइल को ध्यान में रखते हुए तनिष्क ने मैट्रो ब्राइडल कलेक्शन पेश किया है। कलेक्शन में डायमंड ज्वेलरी को ख़ास तौर पर शामिल किया गया है, जिसके तहत डायमंड नेकलेस, बालियां, अंगूठियां, नोजपिन व कंगन स्पेशल हैं।

1 टिप्पणी: